Notice Board
महाविद्यालय के प्राचार्य प्रो० सोहन लाल यादव जी ने सूचित किया है कि : बी०ए०, बी०कॉम० एवं बी०एस-सी० भाग-१, २ एवं 3 संस्थागत/भूतपूर्व के छात्र/छात्राएँ अपना ऑनलाइन परीक्षा आवेदन-पत्र दिनांक 15-11-2017 से महात्मा गाँधी काशी विद्यापीठ के वेबसाइट www.mgkvp.ac.in से निकाल कर दिनांक 20-11-2017 से 15-12-2017 तक महाविद्यालय में आवश्यक रूप से निम्नलिखित काउंटर पर जमा कर दे | बी०ए०, बी०कॉम० एवं बी०एस-सी० भाग-१ (संस्थागत) के छात्र अपना रजिस्ट्रेशन नम्बर महाविद्यालय के सूचना पट्ट से देखकर अपना ऑनलाइन परीक्षा आवेदन-पत्र निकाले | बी०ए० भाग-१ (संस्थागत) : सामान्य काउंटर – अशोक कुमार द्विवेदी बी०ए० भाग-२ (संस्थागत) : भूगोल विभाग – श्री जीतेन्द्र कुमार यादव एवं शशि शेखर मिश्र बी०ए० भाग-3 (संस्थागत) : काउंटर नं० 02 – श्री प्रमोद कुमार पाण्डेय बी०कॉम० भाग-1 (संस्थागत) : काउंटर नं० 06 – श्री हरिनाथ यादव बी०कॉम० भाग-2 (संस्थागत) : काउंटर नं० 12 – श्री श्याम मोहन झा बी०कॉम० भाग-3 (संस्थागत) : मनोविज्ञान विभाग – श्री गणेश यादव बी०एस०सी० भाग-1 (संस्थागत) : जंतु प्रयोगशाला – श्री अवनीश सिंह बी०एस०सी० भाग-2 (संस्थागत) : वनस

महाविद्यालय के स्नातकोतर एवं स्नातक तृतीय वर्ष में अध्ययनरत छात्रों को सूचित किया जाता है कि महात्मा गाँधी काशी विद्यापीठ वाराणसी के सेवायोजन परामर्श प्रकोष्ठ द्वारा दिनांक 16-11-2017 को पूर्वाह्न 11:30 बजे से एक मार्ग दर्शन सत्र का आयोजन महाविद्यालय के समिति कक्ष में किया गया है | छात्रों से अनुरोध है कि मार्ग दर्शन सत्र में प्रतिभागी बनकर सरकारी एवं निजी क्षेत्र में उपलब्ध रोजगार के अवसरों के सम्बन्ध में बहुमूल्य जानकारी प्राप्त कर लाभान्वित हो | -------- (डॉ ओम प्रकाश सिंह, संयोजक)

महात्मा गाँधी काशी विद्यापीठ, वाराणसी सत्र २०१७-18 एम०ए०/एम०कॉम०/एम०एस-सी०/बी०एड० प्रथम एवं तृतीय सेमेस्टर तथा विधि प्रथम, तृतीय एवं पंचम सेमेस्टर का ऑनलाइन परीक्षा आवेदन पत्र दिनांक १२-10-२०१७ से 02-11-२०१७ तक कार्यालय समा पर जमा होगा | एम०ए०/एम०कॉम०/एम०एस-सी०/बी०एड०/विधि प्रथम सेमेस्टर के छात्र/छात्राएँ अपना रजिस्ट्रेशन नंबर नोटिस बोर्ड से देखकर ऑनलाइन परीक्षा आवेदन-पत्र सम्बंधित काउंटर पर जमा करेंगे |

हरिश्चंद्र स्नातकोतर महाविद्यालय, वाराणसी की सत्र २०१७-१८ की बी०ए० भाग-एक के प्रवेश परीक्षा में सम्मिलित एवं प्रवेश परीक्षा के इच्छुक अभ्यर्थियों को सूचित किया जाता है कि समाजशास्त्र एवं शिक्षाशास्त्र विषयों के सापेक्ष रिक्त सीटों पर विश्वविद्यालय के निर्देशानुसार प्रवेश कार्य दिनांक 10-10-2017 को प्रातः 10:00 बजे से कला संकाय में सम्पादित किया जायेगा | अभ्यर्थियों को वैकल्पिक विषय के रूप में समाजशास्त्र या शिक्षाशास्त्र का अनिवार्य रूप से चयन करना होगा एवं प्रवेश शुल्क तत्काल जमा करना होगा | अभ्यर्थी तदनुसार अपने मूल अंक पत्रों चरित्र प्रमाण-पत्र एवं रैगिंग विरोधी शपथ पत्र के साथ उपस्थित हों|

महाविद्यालय के समस्त मुख्य नियन्ता, उप-मुख्य नियन्ता तथा नियन्ता मण्डल के सदस्यों की एक आवश्यक बैठक दिनांक 05-10-2017 को दिन में 12:00 बजे प्राचार्य कक्ष में आहूत है | आप सभी की उपस्थिति आवश्यक है |

आज दिनांक २१ जून २०१७ योग दिवस के अवसर पर महाविद्यालय के प्राध्यापको, कर्मचारियों एवं छात्र-छात्राओं द्वारा योग किया गया |

बी०एड० सत्र २०१७-१९ में प्रवेश एवं बी०एड० से सम्बंधित किसी भी अन्य जानकारी हेतु बी०एड० विभाग की विभागाध्यक्षा डॉ० ललिता शुक्ला (मो० नं : 9415626206) व डॉ० अजय कुमार सिंह- एसोसिएट प्रोफेसर, बी०एड० (मो० नं – 9838719980) से संपर्क कर सकते हैं |



Campus
Founder

The College


Wrap Text around Image Harish Chandra Postgraduate College, Varanasi is a Govt. aided college and is one of the premier seat of learning of Eastern U.P. under the auspices of Harish Chandra Vidyalaya Samiti (a non profitable charitable institution registered under Indian Society Act 1860.)

Bharatendu Harishchandra, the profounder of the modern Hindi Language founded this institution with five students of the
locality in 1866. By1910,the institution had started High School Classes. The Intermediate Classes started in year 1939.

The Undergraduate Classes in Arts and Commerce began on oct. 4, 1951.At first; the college was affiliated to Banaras Hindu University. The recognition of the Law Classes was made possible in the year 1958

However, owing to certain amendments and changes in the rules and regulation of B.H.U., the college shifted its affiliation with the University of Gorakhpur in the year 1960.Consequently, the B.Ed. Classes began the same year, whereas recognition for B.SC. classes in Maths. Group and Bio. Group was granted in the year 1963 and 1974 respectively.

With the establishment of the Purvanchal University, Jaunpur the college was affiliated to this University in 1987-88. From the session 2009-10, the affiliation of the college is shifted to M.G.Kashi Vidyapeeth,Varanasi.

The college has Postgraduate in the subjects-Commerce, Statistics, Hindi, Mathematics, Chemistry, Botany, Zoology, Political Science, English and Psychology.

Having crossed different stages of development, the college now runs five full-fledged faculties of Arts, Commerce, Science, Education and Law, where studies of different subjects at Undergraduate and Postgraduate levels are being carried out. The institution is now emerging as a centre for Research Work in different subjects in the faculties of Arts, Science and Commerce.

Some of the old graduates of this institution have rendered valuable services to humanity and to the nation in different fields. Late Lal Bahadur Shastri, Ex- Prime Minister of India, Late V.P.Koirala, Ex-Prime Minister of Nepal, Late Dr.Sampurnanand, Ex-Chief Minister of U.P., Late T.N.Singh, Ex-Governor of West Bengal and Late Brig.Usman can be quoted as a few instances.